खुशी का कारोबार

हम तो खुशियां उधार देनेका कारोबार करते है.. साहब,  कोई वक्त पे लौटाता नहीं है इसलिए घाटे में है ।।

हम तो खुशियां उधार देनेका कारोबार करते है.. साहब,

कोई वक्त पे लौटाता नहीं है इसलिए घाटे में है ।।

No comments:

Post a Comment